https://youtu.be/fNa3AUahH0s?si=obwNo4n-2LbGAPd8
प्राइवेट स्कूलों की मनमानी के चलते अभिभावक परेशान

नगर मजिस्ट्रेट ने दिया आश्वासन बुलाई जाएगी बैठक

मंगलवार दिनांक 24 अप्रैल 2024 को मुरादाबाद पेरेंट्स ऑफ़ आल स्कूल के के तत्वाधान में बड़ी संख्या में अभिभावको ने की ए0डी0एम सिटी की साथ बैठक | बैठक में अभिभावकों ने पुछा की डीएम के आदेश न मानने पर आखिर क्या कार्यवाही होगी अब स्कूलों पर ?ऐसी क्या वजह है की स्कूलों द्वारा कुछ न कुछ बहाना बना कर बदल दी जाती है किताबे ? आदेश के बावजूद भी क्यों स्कूल नहीं लगाते है NCERT की किताबे ? सभी मुद्दों पर गंभीरता से ए0डी0एम सिटी से वार्ता हुई है और आश्वासन मिला है की जल्द ही शिकायतों पर कार्यवाही होगी

|

अभिभावकों द्वारा लगातार Email के माध्यम एवं whats app ग्रुप पर इस बात की सूचना दी जा रही है कि स्कूलों द्वारा जो किताबे सत्र 2024-2025 में लगायी गयी है और जो पुस्तके वर्ष 2023-24 में लगी थी उनमे बदलाव किया गया है |
अभिभावकों द्वारा जो शिकायत Email के माध्यम से जिला विधालय निरीक्षक , जिलाधिकारी , कमिश्नर , माननीय मुख्यमंत्री को किताबे बदलने के सम्बन्ध में की गयी थी उन Email का प्रिंट जिला विधालय निरीक्षक द्वारा स्कूलों को उपलब्ध कराया गया है , अब स्कूलों के प्रधानाचार्य /प्रबन्धक द्वारा उन अभिभावकों से सम्पर्क करके उन पर शिकायत वापस लेने का दवाब बना रहे है | आगे कहा
माह फ़रवरी 2024 में जिला शुल्क नियामक समिति की बैठक आहुत की गयी थी जिसमे सर्व सहमति से यह निर्णय लिया गया था की जिन विषयों में एन०सी०ई०आर०टी० की पाठ्य पुस्तकें हैं उन विषयों का शिक्षण कार्य एन०सी०ई०आर०टी० की पाठ्य पुस्तकों से कराया जायेगा और जिन विषयों में एन०सी०ई०आर०टी० की पुस्तकें नहीं है, उन विषयों का शिक्षण कार्य निजी प्रकाशकों की पुस्तकों से कतिपय प्रतिबन्धों के साथ कराया जा सकता है। विद्यालयों द्वारा तय किये गये दुकानों पर ही उपलब्ध पुस्तकों को विद्यालय में अध्ययन/अध्यापन हेतु कदापि नहीं लगाई जायेंगी और न ही उन्हें किसी विशेष पुस्तक विक्रेता की दुकान से क्रय करने हेतु विद्यार्थियों/अभिभावकों को प्रेरित अथवा बाध्य किया जायेगा। इसी तरह से किसी भी छात्र /अभिभावक को ड्रेस, जूता, मोजा आदि भी किसी दुकान

विशेष से खरीदने के लिए बाध्य नहीं किया जायेगा। सभी स्ववित्तपोषित स्वंतत्र विधालयो के प्रधानाचार्य/संचालक पाठ्यक्रम में तब तक कोई परिवर्तन नहीं करेंगें जब तक सम्बन्धित शिक्षा बोर्ड द्वारा पाठ्यक्रम में परिवर्तन न कर दिया जाये। सभी स्ववित्तपोषित स्वतंत्र विधालयो के प्रधानाचार्य/संचालक शैक्षिक सत्र 2024-25 में विद्यालय पोशाक में कोई परिवर्तन नहीं करेगें। सभी स्ववित्तपोषित स्वंतंत्र विधालयो के प्रधानाचार्य/संचालक शुल्क जमा करने हेतु मासिक / तिमाही शुल्क जमा करने का विकल्प अभिभावक/विद्यार्थी को देंगे। (छायाप्रति संग्लन है )
सत्र 2024-25 के लिए हुई जिला शुल्क नियामक समिति के निर्णय का प्राइवेट स्कूलों द्वारा खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है |
यह है कि मुरादाबाद के कई स्कूलों द्वारा अपनी बुक लिस्ट में केवल दिखाने के लिए NCERT बुक्स का नाम लिखा गया है जब उनके तय किये दुकानदार पर अभिभावक जाते है तो दुकानदार ncert बुक्स न देकर केवल प्राइवेट पब्लिशर की किताबे देते है औए यह कहते है की स्कूल में ncert से पढाई नहीं होगी |
सत्र 2024-25 के लिए केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा दिनांक 22-03-2024 को एक पत्र जारी करके यह बताया गया है की NCERT द्वारा कक्षा 3 और 6 की text books में बदलाव किया गया है इसके अलावा किसी अन्य कक्षा की किताबो में कोई बदलाव नहीं हुआ है. There will be no change in the Curriculum and textbooks for other classes for the academic year 2024-25 commencing from 1st April 2024.
अभिभावकों द्वारा उपलब्ध करवायी गयी सूचना के आधार पर निम्लिखित स्कूलों द्वारा सत्र 2024-25 में पाठ्यक्रम और पुस्तको में बदलाव किया है :-
1 Spring Field school
2 St mira’s, kashiram nagar and mansarover.
3 St marys civil lines
4 St marys Vuddhi vihar
5 Aaryan’s international school
6 CL gupta World School
7 SS children , civil lines
8 SS children , Kanth road
9 PMS Public School
10 Krypton Public School
11 Summer Valley School
12 KCM school
13 Bonne Anne public School
14 Rani pritam kunwar school
15 Gandhi Nagar Public School
16 st pauls
17 SDM inter college line par
18 St mira , Mansarover
19 RRK school
20 Shirdi Sai Public School
21 RSD School
22 Neo Dales
23 Golden Gate school.
सत्र 2023-24 में भी विधालयो द्वारा जिला शुल्क नियामक समिति के निर्णयो का खुलेआम उल्लंघन किया गया था जिसकी जाँच भी विभिन्न स्तर से हुई थी जिसमे सभी स्कूल दोषी पाए गये थे आपके द्वारा भी इसकी जांच करवायी गयी थी और परन्तु स्कूलों पर कोई कार्यवाही नहीं हुई थी | मंडलायुक्त मुरादाबाद ने भी पुरे प्रकरण की जांच अपने स्तर से करवायी गयी थी उअर जांच के बाद मंडलायुक्त द्वारा जिला विधालय निरीक्षक के खिलाफ रिपोर्ट शासान को भेजी गयी थी |
NCERT की किताबो का न लगाने को लेकर स्कूल द्वारा विभिन्न तरीके ढूंढे जा रहे है इसमें आपको अवगत कराना जरुरी है की गत वर्ष 2023-24 में जिलाधिकारी मुरादाबाद के निर्देश पर अपर जिलाधिकारी नगर मुरादाबाद को जिला शुल्क नियामक समिति का नोडल ऑफिसर नियुक्त किया गया था उनके द्वारा एक पत्र क्षेत्रीय अधिकारी , केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड , देहरादून को भेजा गया था जिसमे केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा संचालित विधालयो के क्रियाकलापों एवं विधालयो में विषयवार अध्यन हेतु पुस्तकों की अनिवार्यता के समबन्ध में जानकारी चाही गयी थी , क्षेत्रीय अधिकारी के द्वारा उत्तर दिया गया गया की उपरोक्त क्रम में यह भी कि, केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, द्वारा सम्बद्धता प्राप्त विधालयो में जहां तक हो सके, NCERT द्वारा जारी विषय पुस्तकों को संचालित करने का प्रावधान है, परन्तु जिन विषयों में NCERT द्वारा पुस्तकें जारी नहीं की जाती, उसके लिए विधालयो का उत्तरदायित्व रहता है कि, जिस भी प्राईवेट प्रकाशक की पुस्तक लगाई जाए. उसके कन्टेंटस कोर्स का डिजाइनिंग-पाठ्यक्रम एवं पुस्तक का मूल्य आदि पर नियमानुसार विद्यालय के प्रबंधक एवं प्राचार्य को सत्यापित करना होगा, और इस बावत् प्रत्येक विद्यालय अपनी वेबसाईट पर जनमानस के सूचनार्थ विवरण ‘उपलब्ध करायेगा, अन्य स्टडी मटेरियल जो कि, बोर्ड द्वारा भी विषय पाठ्यक्रम के समरूप वेबसाईट पर उपलब्ध कराया ‘गया है, को भी विधालयो द्वारा उपयोग में लाई जा सकती है।
अभिभावकों ने नगर मजिस्ट्रेट से करबद्ध निवेदन किया कि उपरोक्त बिन्दुओ पर आप स्वयं किसी भी विधालय में जाकर जांच कर सकते है जिससे आपको वास्तविकता का पता चल जायेगा कि किस तरह स्कूलों द्वारा शासन और मुरादाबाद प्रशासन के द्वारा जारी आदेशो का मजाक बना रहे है और खुलेआम उल्लंगन कर रहे है और लगातार उत्तर प्रदेश सरकार को बदनाम करने का काम कर रहे है हर वर्ष अभिभावकों की शिकायतों के बाद जिला विधालय निरीक्षक द्वारा केवल निर्देश दिए जाते है न उन पर अमल होता और न ही कोई कार्यवाही होती है |
अभिभावकों द्वारा नगर मजिस्ट्रेट से तत्काल प्रभाव से हर वर्ष स्कूलों द्वारा किताबे बदलने पर रोक लगायी जाने ,जिन विधालय द्वारा जिला शुल्क नियामक समिति के निर्णयो का उल्लंघन किया है उन पर उचित कानूनी कार्यवाही की जाए , एवं जिन अभिभावक द्वारा शिकायत की गयी है उन्हें और उनके बच्चो पर दवाब न बनाया जाये और न ही परेशान किया जाए |

इस मौके पर अध्यक्ष अनुज गुप्ता , सचिव अंकित अग्रवाल, सन्नी सिन्हा , कविता सचदेवा ,राजदीप गोयल , राजीव सिंह , अंकित अग्रवाल , मो0 ज़मीर, वैभव गुप्ता आकाश रस्तोगी , संजय अग्रवाल , अमित शर्मा , भारत कपूर, मनीष बेरी , मतीन उद्दीन , मोअज्ज़म अजाजी , मो आज़म , खुशबू गुप्ता , अतुल गुप्ता , प्रदीप कुमार सक्सेना , मोहित सिंह , प्रदीप वर्मा , प्रतीक गोयल , राजू पाल , संजय सोनी , संजीव कुमार , सतेन्द्र सक्सेना , शिव भटनागर , स्वाति अग्रवाल , नीति शर्मा , उमेश शर्मा , सुयश भटनागर , उस्मान खालिद, वासु गुप्ता, राहुल रस्तोगी , मो काशिफ , आर एम दुबे , प्रदीप रस्तोगी , कपिल गुप्ता , फ़िरोज़ इकबाल , प्रदीप माथुर आदि बड़ी संख्या में अभिभावक मौजूद रहे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *